http://2.bp.blogspot.com/_x0R6CK72Rpc/TBixL678IwI/AAAAAAAADRI/Guiamxo_RVE/S970-R/cartoon+institute+logo.jpg
आप कार्टूनिस्ट हैं और आपने अभी तक अपना ब्लॉग नहीं बनाया है तो कृपया अभी अपना ब्लॉग बनाएं। यदि कोई परेशानी हो तो केवल हिन्दी में अपना ब्लॉग बनवाने के लिए आज ही सम्पर्क करें-चन्दर

कार्टूनेचर फ़ीचर सेवा

खोज

लोड हो रहा है. . .

बुधवार, 6 अगस्त 2014

कार्टूनिस्ट प्राण

चाचा चौधरी के जन्मदाता
कार्टूनिस्ट प्राण नहीं रहे 












५ अगस्त/कल/मंगलवार की रात कार्टूनिस्ट प्राण का निधन हो गया। प्राण ने सन १९६० से कार्टून बनाने की शुरुआत की थी। उन्होंने आरम्भ में दिल्ली से प्रकाशित होने वाले अख़बार मिलाप में कार्टून बनाए।
हिंदी बाल पत्रिका लोटपोट के लिए उन्होंने ’चाचा चौधरी’ को जन्म दिया। यह पात्र बाद में काफ़ी लोकप्रिय हो गया। जल्दी ही यह एक स्वतंत्र कॉमिक्स के तौर पर बहुत प्रसिद्ध हो गया। चाचा चौधरी को लेकर एक टीवी सीरियल भी बनाया गया था जिसे बच्चों और बड़ों ने खूब पसन्द किया। प्राण के बनाए अनेक कार्टून पात्र जैसे चाचा चौधरी, साबू, रमन, श्रीमतीजी, बिल्लू आदि घर-घर में सभी की पसन्द बन गये।
प्राण भारतीय कॉमिक जगत के पर्याय ही बन गये। कार्टूनिस्ट प्राण को भारत का वाल्ट डिजनी भी कहा जाता है। वे सबसे सफल कार्टूनिस्टों में से एक गिने जाने लगे। वे डायमंड कॉमिक्स से लम्बे समय से जुड़े हुए थे। उन्हें लोकप्रियता और धन दोनों ही भरपूर मिले।
उनका जन्म १५ अगस्त, १९३८ को लाहौर में हुआ था. उनका पूरा नाम प्राण कुमार शर्मा था, लेकिन वो प्राण के नाम से ही जाने जाते थे।
नमन...श्रद्धांजलि! 
देखें-
http://www.cartoonnewshindi.blogspot.in/2013/08/blog-post_14.html   http://www.bbc.co.uk/hindi/india/2014/08/140806_pran_cartoonist_no_more_pk.shtml

सोमवार, 9 जून 2014

कार्टूनार्ट फ़ाउण्डेशन

कार्टूनार्ट फ़ाउण्डेशन का शुभारम्भ
राजधानी के प्रेस क्लब में ०८ मई, २०१४ को सायं कार्टूनिस्ट-कार्टून प्रेमियों कार्टून कला के प्रचार, प्रसार, प्रशिक्षण आदि के लिए योजना बनाकर कुछ करने को लेकर विचार-विमर्श किया। तय हुआ कि ’कार्टून आर्ट फ़ाउण्डेशन’ का शुभारम्भ किया जाए। नाम का प्रस्ताव शरद कुमार ने प्रस्तुत किया।
उपस्थित लोगों में अधिकांश १९८२-८३ बैच के ललित कला महाविद्यालय (नयी दिल्ली) के पूर्व छात्र थे। भारतीय मूल के अमरीकी नागरिक अरुण मोदी ने कहा कि कार्टून कला को एक विषय की भांति पढ़ाया जा सके, ऐसा प्रबन्ध हो। महारानी बाग पॉलिटेक्निक में व्याख्याता मधु शंकर ने कहा कि कार्टून कला पर विशेष रूप से अब बहुत ध्यान देने की जरूरत है।
कार्टूनिस्ट चन्दर ने कहा कि कार्टूनार्ट फ़ाउण्डेशन की शुरूआत कार्टून कला के प्रचार, प्रसार, प्रशिक्षण आदि के लिए एक अच्छा माध्यम बने, ऐसा मेरा प्रयास रहेगा। इस कार्य को जारी रखने के लिए सभी के सहयोग की आवश्यता बनी रहेगी।
इस अवसर पर अनिल मनन, सुधीर नगीना, दीपाली बोस, अनिल परगनिहा, शुभ्रा वर्मा, रजनी मनन, राजीव काकड़िया, किरण खुल्लर, गुरलीन आनन्द सहित अन्य लोग भी उपस्थित थे।
प्रस्तुति: विशाल कुमार

शनिवार, 7 जून 2014

कार्टून प्रदर्शनी



सौ वीं कार्टून प्रदर्शनी
इण्डियन कार्टून गैलरी में कार्टून प्रदर्शनी का विशेष आयोजन

शनिवार, 26 अप्रैल 2014

मोदी की कहानी

चित्रकथा मोदी की कहानी
कार्टून वाच पत्रिका का प्रकाशन कर रहे त्र्यम्बक शर्मा ने हाल ही में वाराणसी में वहाँ के महापौर राम गोपाल मोहले से 'मोदी की कहानी’  ( चित्रकार हुसैन ज़ामिन) शीर्षक चित्रकथा का विमोचन कराया।

कार्टूनेचर फ़ीचर सेवा

कार्टून न्यूज़ हिन्दी झरोखा